Loading...

Jungle k rahasya

जंगल के रहस्य

“जंगल के रहस्य” यह एक कथेतर किताब है जिसे कल्पवृक्ष प्रकाशन एवं लास्ट विल्डरनेस फाउंडेशन ने पब्लिश किया है| जिसे लिखा है तान्या मजुमदार और शर्मीला देव ने, किताब का भाषांतर किया है भावना मेनोन ने|

Gajendra Raut Parag Reads 18 October 2019

A moving memoir

Brown girl dreaming (2016, Puffin Books), is a poignant childhood memoir by Jacqueline Woodson, told in verse. It is a kind of a young adult book that lingers in your mind long after you have set it aside.

Amrita Patwardhan Parag Reads 4 October 2019

Translations, Reprints & Original Writing – Rejuvenating Kannada Children’s Literature

In 2018 the Big Little Book Award for Author went to Mr. Nagesh Hegde for significant contribution to Kannada children’s literature. 

Swaha Sahoo Parag Reads 24 September 2019

Kahani Ranjan Ki

शिक्षा के उद्देश्यों पर बात करते हुए अक्सर इस बात को अलग से रेखांकित किया जाता है। लेकिन व्यवहारिक स्तर इसे उतारने के लिए अनेक सघन प्रयासों की आवश्यकता है।

Navnit Nirav Parag Reads 20 September 2019

Maa

एक जुझारू माँ का संघर्ष गीत

कांचा इलैया शेफर्ड एक महत्‍वपूर्ण लेखक हैं। उनकी रचना ‘माँ’ एक तरह से उनके भोगे यथार्थ की प्रस्‍तुति है। माँ किस तरह से अपने समाज को खड़ा करती है, कवि उसके संघर्ष को स्‍मरण करता हैा

Lalbahadur Ojha Parag Reads 6 September 2019

Hanna Ka Suitcase

हाना का सूटकेस यानी मनुष्‍यता के लिए संदेश

हाना एक शिक्षिका बन गई थी, क्योंकि उसके कारण – उसके सूटकेस और उसकी कहानी के कारण हजारों जापानी बच्चे उन मूल्यों को सीख रहे थे.

Lalbahadur Ojha Parag Reads 23 August 2019

The Visitor

When the visitor comes to you…

On a chair. He was asleep. Dreaming? The visitor arrives. And he opens his eyes. Startled. Most unwanted. Go away! But not so easy. Visitor is here to stay. Stays. He eludes instead.

Proma Roy Basu Parag Reads 16 August 2019

People Wildlife

People & Wildlife

The diversity of Indian wildlife is matched equally by the diversity of people’s action to preserve it! Reality is stranger than fiction, and only the wildest imagination of a child is matched by the ten stories in this compilation

Sandeep Virmani Parag Reads 9 August 2019

नानी चली टहलने

नानी चली टहलने

दीपा बलसावर द्वारा लिखी कहानी “नानी चली टहलने” बच्चों को समाज के उन पहलुओं से रु-ब-रु कराती है जहाँ हमारा सम्बन्ध केवल इंसानो से ही नहीं बल्कि पशु -पक्षी, जानवरों और पेड़-पौधों से भी है, और नानी द्वारा इनके बीच के आपसी स्नेह के रिश्ते को बहुत ही खूबसूरती से बताया गया है

Chitra Singh Parag Reads 30 July 2019

चश्मा नया है

बच्चों के भीतर झाँकने की एक खिड़की हैं ये किस्से। और नए चश्मे से देखेंगे तो और भी बहुत कुछ नज़र आएगा। बच्चों के लिए बहुत सारी कहानियाँ बनती हैं, लिखी जाती हैं और कई उन्हें सुनाई भी जाती हैं।

Priyanka Singh Parag Reads 26 July 2019