Loading...

लेखक: फिलिप सी स्टेड
चित्रांकन: एरिन ई स्टेड
हिंदी अनुवाद: अरविन्द गुप्ता
प्रकाशक: रोअरिंग ब्रूक प्रेस, न्यू यॉर्क

इस किताब से मैं हाल ही में परिचित हुई और पढ़ते ही इसकी अपनी एक कॉपी की चाह मन में बन गई. कवरपेज देखकर ही पता चलता है की इस किताब को चित्रांकन के लिए एक अवार्ड भी मिला है और किताब देखकर ये स्पष्ट हो जाता है की क्यों मिला होगा| इस किताब के शांत, सॉफ्ट रंग छू जाते हैं और उनमे छुपी अमोस की कहानी| हर पेज पर अमोस की एकांत और बंधीबंधाई ज़िन्दगी से हम उजागर होते हैं| शुरू में लगता है कि अमोस अपने रोज़ के कार्य पर जा रहा है और जानवरों की देखभाल करता है लेकिन जैसेजैसे हम आगे बढ़ते हैं, ये नजरिया पलट जाता है और उसके साथसाथ चित्रांकन भी| जैसे हाथी के साथ चेस अमोस बाद में फिर खेलता है, बस देखने का नजरिया अब कुछ और हो जाता है| यह कहानी में एक दोहराव लाता भी है और नहीं भी|

जानवरों के साथ हम भी बीमार अमोस से मिलने निकल पड़ते हैं और उसकी ज़िन्दगी में दाखिल हो जाते हैं| ये ख़ूबसूरती है इस किताब के चित्रांकन कि जो शब्दों से कहीं आगे आपको ले जाते हैं| इस कहानी में अमोस और उसके दोस्तों के बीच के इस रिश्ते को हम महसूस कर सकते हैं| कछुए के साथ लुक्काछुपी खलेने वाला चित्र और अंत में जब सभी एक साथ सो जाते हैं वह चित्र, बहुत ही उंदा हैं और मेरे पसंदीदा भी| चित्रांकन और शब्दों, दोनों में ही बहुत सरल, सहज तरीके से प्यार, ख्याल रखने और और दोस्ती के जज़्बात उभरते हैं|

For the impact of libraries!

किताबें झांकती हैं बंद अलमारी के शीशों से’, read Gulzar in one of his poems. As I re-read it, I wondered if these ‘band almaris’ had been open. If they had been open, has everyone consumed the pleasure of books before the almirahs closed? Will they be open forever?

Ms Ajaa Sharma Parag Nurtures 16 April 2019

‘Children Connect Easily to the Everyday in this Book’

Nani Chali Tahalne is a chain tale. It can also be called a repetitive tale. There is a chain of places which Nani visits with her grandson “Vanky”. Each time she visits a place she describes it with a new name based on her memory of that place. I used the book with children of Grades 1 to 4 and observed that children were able to experience and understand the story.

Usha Malhan Parag Reads 03 April 2019